ऐ खुदा जो में चाहता हु उसे अदा कर, या फिर तू महेरबान होना रहने दे, जो मेरे बस में नहीं रहता है आज-कल, उन यादो को मुझे रूबरू करना...

ऐ खुदा जो में चाहता हु उसे अदा कर



ऐ खुदा जो में चाहता हु उसे अदा कर, या फिर तू महेरबान होना रहने दे,

जो मेरे बस में नहीं रहता है आज-कल, उन यादो को मुझे रूबरू करना रहने दे,

जो भी में मांगता हु मेरे अपनों के लिए, बड़ी ही शिद्दत के साथ मांगता हु,

पर हर घडी हर वख्त मुझे तू, यु दुनियादारी में उल्जाना रहने दे,

अपने मुकाम तक पहोच ही जाऊंगा एक दिन, ये तय करके ही सफ़र पे निकला हु,

मुस्किल मुझे चाहे तो हजार देना, पर यु रहेमत दिखाना तू रहने दे..


आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद
अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आती है तो आप कमेन्ट में जरुर बताए

0 कमेन्ट यहाँ कीजिये: