महात्मा गाँधी एक ऐसा नाम जिसे भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनियामे परिचय की जरुरत नहीं है. सत्य और अहिंसा का पुजारी जिसने प...

गाँधीजी के अनमोल विचार


             महात्मा गाँधी एक ऐसा नाम जिसे भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनियामे परिचय की जरुरत नहीं है. सत्य और अहिंसा का पुजारी जिसने पुरे अंग्रेजो को जुका दिया और भारत को आजादी दिलाइ. महात्मा गाँधीजी को बापू के नामसे भी जाना जाता है. आइये आज महात्मा गांधीजी के अनमोल विचारोको जानते है.


व्यक्ति अपने विचारो से निर्मित है, वह जो सोचता है वही बन जाता है.

हमेशा अपने विचारो, शब्दों, और कर्मो के पूर्ण सम्ज्यास का लक्ष्य रखे. हमेशा अपने विचारोको शुध्द करने का लक्ष्य रखे और सब कुछ ठीक हो जायेगा.

आँख के बदले में आँख पुरे विश्व को अँधा बना देगी.

थोडा सा अभ्यास बहुत सारे उपदेश से बेहतर है.

खुद वो बदलाव बनिए जो आप दुनिया में देखना चाहते है.

पहले वो आप पर ध्यान नहीं देंगे, फिर वो आप पर हसेंगे, फिर वो आप से लड़ेगे, और तब आप जित जायेगे.

ख़ुशी तब मिलेगी जब आप जो सोचते है, जो कहते है और जो करते है, सामज्य में हो.

जब तक गलती कनरे की सवतंत्रता न हो तब तक सवतंत्रता का कोई अर्थ नहीं है.

अपनी गलती को स्वीकारना जाडू लगाने के समान है जो सतह को चमकदार और साफ कर देती है.

में मरने के लिए तैयार हु, पर ऐसी कोइ वजह नहीं है जिसके लिए में मारने को तैयार हु.

मेरा धर्म सत्य और अहिंसा पर आधारित है, सत्य मेरा भगवान है, अहिंसा उसे पाने का साधन.


आपका बहु मूल्य समय देने के लिए धन्यवाद अगर आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया तो इसे लाइक और शेर जरुर कीजिये

0 कमेन्ट यहाँ कीजिये: