कैलाश पर्वत पर है शिवजी का घर, दूसरा घर है यहां, एक बार जरूर करें दर्शन

शिवजी का पहला घर कैलाश पर्वत पर माना जाता है। लेकिन, कम ही लोग जानते हैं कि उनका दूसरा घर भी है, जो मध्यप्रदेश के सतपुड़ा की वादियों में है।

मध्यप्रदेश के सतपुड़ा के जंगलों में घिरे पचमढ़ी की वादियों में स्थित है जटाशंकर धाम। इसे शिवजी का दूसरा घर भी कहा जाता है। पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक भस्मासुर से बचने के लिए शिवजी ने पहले इटारसी के पास स्थित तिलक सिंदूर में शरण ली थी, उसके बाद जटाशंकर में छुपे थे। पचमढ़ी में शिवजी ने यहां अपनी विशालकाय जटाएं फैलाई थीं। चट्टानों का फैलाव देख ऐसा महसूस भी होता है। जटाशंकर धाम को भी शिवजी का दूसरा घर माना जाता है।

जटाशंकर धाम में बरसों से रह रही सिंधु बाई कहती हैं कि वे शिवजी की भक्त हैं। कई सालों पहले वह चली आई थी। दिनरात जंगल में रहना और भक्ति करना ही सिंधुबाई का काम है।

सिंधु बाई कहती है कि पौराणिक कथाओं में भी इसका उल्लेख मिलता है कि जब भस्मासुर शिवजी के पीछे पड़ गए थे उस समय शिवजी भागकर यही छुपे थे। पहाड़ों और चट्टानों के बीच बरगद के पेड़ों की झूलती शाखाएं देखकर लगता है कि शिवजी ने अपनी विशालकाय जटाएं फैला रखी हैं। इन्हीं कारणों से इस स्थान का नाम जटाशंकर पड़ा।

भक्त गुनगुनाते हैं सिंधू बाई के भजन

पहाड़ों के बीच वीराने में बैठकर सिंधू बाई बरसों से शिवजी के भजन गा रही है। उसके भजन और आवाज का जादू ऐसा है कि हर कोई श्रद्धालु उसके भजन सुनने के लिए रुक जाता है। सिंधू बाई के भजनों की सीडी भी काफी लोकप्रिय हुई है। सिंधु बाई नाम की यह महिला दो दशक पहले महाराष्ट्र के यवतमाल जिले के गोरज गांव से यहां आकर रहने लगी थी। वह क्यों आई इस बारे में वह सिर्फ इतना कहती है कि शिवजी ही मुझे यहां तक ले आए। सिंधु बाई को स्थानीय लोग भक्तन बाई के नाम से भी पुकारते हैं।

सुनिए अम्मा की प्रार्थना

इस भजन में सिंधु बाई ने शिवजी की तारीफ की है और साथ में यह भी प्रार्थना की गई है कि आपके गले में सर्प की माला, भभूत लगाए, हाथों में डमरू और त्रिशूल लिए शिवजी, तो कैसे पूजा करूं, मुझे डर लागे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *