Kamla Devi – विधवा माँ ने मजदूरी करके 3 नो बेटियों को बनाया RAS

Kamla Devi – विधवा माँ ने मजदूरी करके 3 नो बेटियों को बनाया RAS. वृद्ध विधवा मां (Kamla Devi) ने खेतों में मेहनत-मजदूरी कर अपनी तीन बेटियों को अफसर बनाने का सपना साकार कर दिखाया। मां का कहना है कि उसने अपने पति की अंतिम इच्छा पूरी की। जो चाहते थे कि उनकी तीनों बेटियां बड़ी अफसर बनें। इकलौता बेटा भी पिता की इच्छा पूरी करने के लिए पढ़ाई छोड़ मेहनत-मजदूरी में जुट गया, ताकि बहनें पढ़ सकें।

जज्बातों से भरी यह कहानी जयपुर जिले के सारंग का बास गांव की है। जहां 55 वर्षीय मीरा देवी की तीन बेटियों कमला चौधरी, ममता चौधरी और गीता चौधरी ने राजस्थान प्रशासनिक सेवा (RAS) परीक्षा में सफलता हासिल की।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसारमीरा का कहना है कि स्वर्गवासी पति गोपाल की अधूरी इच्छा पूरी करना ही उनके जीवन का मकसद था।गोपाल अपनी तीनों बेटियों को अफसर बनाना चाहते थे। विधवा मां ने इस सपने को पूरा करने के लिए गरीबी को आड़े नहीं आने दिया। बेटे ने भी त्याग किया।

गांव के छोटे से कच्चे घर में रहने वाली बेटियों ने भी मन लगाकर पढ़ाई की। तीनों ने मिलकर योजना बनाई और दो साल जमकर प्रशासनिक सेवा की तैयारी की। उन्होंने भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीक्षा भी दी थी, लेकिन कुछ अंक से पीछे रह गईं। फिर राजस्थान प्रशासनिक सेवा की परीक्षा दी और उसमें वे सफल हो गईं।

तीनो में सबसे बड़ी कमला को ओबीसी रैंक में 32वां स्थान मिला, वहीं गीता को 64वां और ममता को 128वां स्थान मिला। मीरा देवी का कहना है कि कई सालों तक बीमार रहे पति का दो साल पहले देहांत हो गया। इसके बाद से बेटियों ने पिता का सपना पूरा करने के लिए दिन-रात पढ़ाई करना शुरू किया।

 

उम्मीद करते है की आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। अगर आप कोई सुझाव देना चाहते है तो हमें कमेंट जरूर से कर सकते है। आप हमारा वेबसाइट पर औरभी कही सारे आर्टिकल पढ़ सकते सकते है. आपका बहोत बहोत धन्यवाद हमारा यह आर्टिकल Kamla Devi – विधवा माँ ने मजदूरी करके 3 नो बेटियों को बनाया RAS पढ़ने के लिए।

 

यह भी पढ़े : Shiv Bhagwan Bal Katha भगवान शिव का जन्म कब और कहा हुआ जरूर पढ़े.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *